बुधवार, 26 दिसंबर 2012

चित्रात्मक--कहानी सोनू चिड़िया


सोनू चिड़िया और रुपहली दोस्त थीं। दोंनों पेड़ों पर फ़ुदक रही थीं।तभी सोनू को एक पेड़ पर एक बहुत सुन्दर रंग बिरंगा फ़ल दिखा।
सोनू बोली,मैं ये फ़ल खाऊंगी।
उसकी प्यारी दोस्त सुनहरी ने बहुत समझाया।मना किया।
प्यारी सोनू,ये फ़ल मत खा।इससे तेरा गला खराब होगा।
पर सोनू ने उसकी बात नहीं सुनी।वह उस रंग बिरंगे फ़ल को चखने का लालच नहीं रोक सकी।बस उसी दिन उसका गला खराब हो गया।गाना,बोलना सब बंद।
        जंगल के सारे जानवर दुखी रहते।सोनू के सुरीले गीत सभी को पसंद थे।सोनू भी उसी दिन से उदास रहने लगी।
     पूरे छः महीनों तक न वह कहीं गा सकी। न बोल सकी। बहुत परेशान रही वह।पता नहीं कहां से उसने वो कसैला फ़ल चख लिया था।
एक दिन सबेरे दोनों दोस्त पेड़ की डाल पर बैठी थीं।आते जाते जानवरों को देख रही
थीं।दूसरी चिड़ियों का चहचहाना सुन उसकी आंखों में आंसू आ गये।
पता नहीं मेरी आवाज कभी ठीक होगी या नहीं। उसने सोचा।
अचानक वहां एक गधा कहीं से भटकता हुआ आ गया।वह उसी पेड़ से अपनी पीठ रगड़ने लगा जिस पर दोनों बैठी थीं।शायद उसकी पीठ खुजला रही थी।
पेड़ पतला था।गधे के पीठ रगड़ने पर वो हिलने लगा।पहले धीरे धीरे फ़िर तेजी से।
रुपहली और सोनू घबरा गईं। उन्हें लगा कहीं ये पेड़ गिर न जाय।
सोनू चीखी,बच के रुपहली,ये गधा हमें गिरा देगा।उसकी आवाज सुन रुपहली चौंक गई।
अरे सोनू,तू तो बोल सकती है।रुपहली चीखी।
अरे सच मेंमैं बोल सकती हूं। अब मैं फ़िर गाऊंगी,चहचहाऊंगी।सोनू जोर से चीखी।
सोनू और रुपहली चहचहाते हुये तेजी से उड़ीं।
दोनों चीख रही थीं। चहचहा रहीं थीं।गा रही थीं।पूरे जंगल में पंख फ़ैलाए उड़ रही थीं।
जंगल के सारे जानवर भी खुशी मना रहे थे।
                  -----
पूनम श्रीवास्तव

12 टिप्‍पणियां:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत ही सुंदर बाल कहानी,,,,

recent post : नववर्ष की बधाई

सुधाकल्प ने कहा…

सहजता से सरल भाषा में लिखी बालमन को भाती कहानी ।
नव वर्ष की शुभ कामनाएँ ।

सदा ने कहा…

बालमन के अनुपम भाव संजोये हुये उत्‍कृष्‍ट रचना

आभार

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सुन्दर बाल भावों से सजी ... मस्त कहानी ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
--
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार (28-12-2012) के चर्चा मंच-११०७ (आओ नूतन वर्ष मनायें) पर भी होगी!
सूचनार्थ...!

पुरुषोत्तम पाण्डेय ने कहा…

बहुत प्यारी बालमनभावन सचित्र कहानिया. बधाई है.

Reena Maurya ने कहा…

बहुत सुन्दर बाल कहानी..
:-)

कविता रावत ने कहा…

बहुत सुन्दर लगी चित्रात्मक बालकथा प्रस्तुति ...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वाह, चित्रमयी व रंगमयी प्रस्तुति।

रचना दीक्षित ने कहा…

अपनी क्षमता पर भरोसा रखना सीखना होगा...

आगामी नव वर्ष के लिये शुभकामनायें.

Vinay Prajapati ने कहा…

नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ... आशा है नया वर्ष न्याय वर्ष नव युग के रूप में जाना जायेगा।

ब्लॉग: गुलाबी कोंपलें - जाते रहना...

lokendra singh ने कहा…

वाह !