शुक्रवार, 20 फ़रवरी 2009

इंतजार


कुछ इस तरह से आइना
पलट के देखती हूँ बार बार
शायद किसी तरह उनका
दीदार हो जाय।

बेरुखी हवाओं से
कहती हूँ बार बार
कुछ इस तरह बहो
की बहार आ जाय।

दूर तक नजरें उठा के
सोचती हूँ बार बार
की चिलमन गिरने से पहले
वो नजर आ जाय।

आंखों से बहे अश्कों को
पोंछती हूँ बार बार
शायद खुशी का
कोई पैगाम आ जाय।

क़दमों की आहट पर
भागती हूँ बार बार
आ गये हों शायद वो
अब इंतजार ख़त्म हो जाय।
--------------
पूनम

8 टिप्‍पणियां:

विनय ने कहा…

आप भी लखनऊ से हम भी लखनऊ से आपकी रचनाएँ पढ़ने में बहुत मज़ा आ रहा है।

---
चाँद, बादल और शाम
गुलाबी कोंपलें
सरकारी नौकरियाँ

अल्पना वर्मा ने कहा…

बेरुखी हवाओं से
कहती हूँ बार बार
कुछ इस तरह बहो
की बहार आ जाय।

waah ! bahut achchee rachna hai Poonam ji.

sach kahun aap ke blog par aa kar mujhey bhi achcha lga.

mere blog par aap aayin...bahut khushi hui..sach kahun..bahut apni si lagin aap.shukriya.

अविनाश ने कहा…

बेरुखी हवाओं से
कहती हूँ बार बार
कुछ इस तरह बहो
की बहार आ जाय।

सुन्‍दर रचना, बहुत खूब.
धन्यवाद

रश्मि प्रभा ने कहा…

आंखों से बहे अश्कों को
पोंछती हूँ बार बार
शायद खुशी का
कोई पैगाम आ जाय।
......खुशियों ने दस्तक दी है,इंतज़ार ख़त्म हुआ है........देखिये तो बाहर,उजाला ही उजाला है

creativekona ने कहा…

बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ ..पूनम जी ..आपकी रचनाएँ एकदम अलग हट कर हैं .

http:badnam.blogspot.com ने कहा…

मेरी यादों को अपने दिल में बसाये रहिए।
मानिन्द-ए-ख्वाब अपने दिल में सजाये रहिए।
इक न दिन वो तुमसे मिलने आयेंगे-
प्यार की राह को खुशगवार बनाये रहिए

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

मन में रखिए आस,
नज़र वो आएँगे!

मन की बगिया में,
बहार बन छाएँगे!

आँखों को सपने,
खुशियों के भाएँगे!

इंतज़ार पूरा होगा,
सपने सज जाएँगे!

Dr. shyam gupta ने कहा…

jeene naheen detaa
ye kambakht "shaayad".
aashaaon kee dor hai
ye kambakht "shaayad".

shaayad kisee mod par,
mil hee jaayen koyee aur,
yah bhee hai ek raastaa,
chaahe koee jo, shaayad.