सोमवार, 30 मई 2011

दिल के जज्बात

दिल के जज्बात जब आंखों में उतर आये

तो सब्र का मानों सैलाब बह गया।

एक लहर आई और पलकों पर ठहरी

पर दूसरी साथी लहरों ने उसका साथ दे दिया।

हंसी बिखेरती रही झूठी मुस्कान ओढ़ कर

पर वो बेमुरौव्वत हाले दिल बयां कर गया।

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब

पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।

इन आंसुओं का भरोसा क्या कब बरस जायें

खुशी हो गम दोनों में रिश्ते निभाता गया।

अजब का इनका रिश्ता भी है न साथियों

किस बात पर ये छलक पड़े किसको गुमां हो पाया।

000

पूनम


47 टिप्‍पणियां:

Sunil Kumar ने कहा…

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब
पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।
क्या बात है पूनम जी बहुत खुबसूरत शेर कह दिया हमारी ओर से मुबारकवाद कुबूल करें ...

SAJAN.AAWARA ने कहा…

SOCHA THA MAHFIL ME JUTH KI PAHNE RAKHUNGA NAKAB, PAR SACH KE SAAMNE WO BHI BENKAAB HO GYA. . . . . . . . . . BAHUT HI ACHA LAGA. . . . . . . .
JAI HIND JAI BHARAT

: केवल राम : ने कहा…

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब
पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।

आदरणीय पूनम जी
आपने कितनी बड़ी बात सरल शब्दों में कही है .....बहुत खूब

shikha varshney ने कहा…

आह बेहतरीन शेर.बहुत ही सुंदर .

जाट देवता (संदीप पवाँर) ने कहा…

सच के आगे बेबस,

रचना दीक्षित ने कहा…

एक लहर आई और पलकों पर ठहरी
पर दूसरी साथी लहरों ने उसका साथ दे दिया।


चलो कुछ रूमानी हो जाएँ बहुत अच्छी लगी कविता. सीधी लेकिन गभीर विचार.

Vivek Jain ने कहा…

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब
पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।
बहुत सुन्दर शेर,
- विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

Rakesh Kumar ने कहा…

आपके 'दिल के जज्बात' बहुत गंभीर हैं पूनम जी.
मुझे तो कोई थाह नहीं मिल पा रही है.सोचता हूँ फिर फिर पढूं और समझने की कोशिश करूँ.
हाँ ,आप कुछ समझा दें तो आसान हो जायेगा समझना.

Udan Tashtari ने कहा…

अजब का इनका रिश्ता भी है न साथियों
किस बात पर ये छलक पड़े किसको गुमां हो पाया


-बहुत भावपूर्ण....कोई नहीं जान पाया कि कब छलक आयेंगे.

sushma 'आहुति' ने कहा…

bhut hi khubsurat aur bhaavpur abhivakti...

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

जब आँसू छलकते हैं तो दर्द के दृष्यमान हो जाने का और भी दुःख होता है।

Kunwar Kusumesh ने कहा…

हंसी बिखेरती रही झूठी मुस्कान ओढ़ कर

पर वो बेमुरौव्वत हाले दिल बयां कर गया.

वाह क्या बात है,बहुत खूब.

रश्मि प्रभा... ने कहा…

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब
पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।
sach ke upar nakaab nahi thaharta , mukhaute wale chehre bade sadhe hote hain

Jyoti Mishra ने कहा…

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब
पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।

a very intense line. You write so well !!!

Feelings and emotions are the features which keeps us going.

राकेश कौशिक ने कहा…

"इन आंसुओं का भरोसा क्या कब बरस जायें
खुशी हो गम दोनों में रिश्ते निभाता गया।"

बिलकुल सही कहा आपने - ख़ुशी भी खूब रुलाती है और सच्चे दिल को झूठ का नकाब भी नहीं सुहाता - सुंदर रचना

Ravi Rajbhar ने कहा…

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब
पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।
इन आंसुओं का भरोसा क्या कब बरस जायें
खुशी हो गम दोनों में रिश्ते निभाता गया।

laga sach ko apne kalam thama di ho.

bahut hi bhawpoorn prastuti ...badhai swikare.

Ravi Rajbhar ने कहा…

Respected Poonam Mam,
Sabse pahle to tabiyat thik na hone ke bad bhi hamare angan me akar....apni bat kahne ke liye abhar.
aake sujhaw hamri sabse anmol dharohar hai.

Fir ye jankar bahut dukha huwa ki tabse abhi aapki tabiyat puri tarah swasth nahi hui..!vishesh dhyan dijiye . koi bhi problem jyada lambi chalti hi to thoda chinta ka vishay jarur ban jati hi.

Ham abhi puri tarah thik hain...aur june ke exam par dhyan diye hain...sath ma se duwa karte hai aap bahut jaldi puri tarah swasth ho jaiye..!

Sachin Malhotra ने कहा…

बहुत ही बढ़िया !

अपनी ही प्यास से जुदा हो के रह गए,
उम्र निकल गयी यूँ ही तरसते हुए..
मेरे ब्लॉग पर भी आपका स्वागत है : Blind Devotion

शालिनी कौशिक ने कहा…

अजब का इनका रिश्ता भी है न साथियों

किस बात पर ये छलक पड़े किसको गुमां हो
bahut sundar abhivyakti.

G.N.SHAW ने कहा…

पूनमजी आंसू के मोल बेहद नाजुक होते है , यही तो दिल को ठंढक पहुंचाते है ! बेहद सुन्दर !

vikas garg ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिवयक्ति
vikasgarg23.blogspot.com

सदा ने कहा…

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब
पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।

आप बहुत ही अच्‍छा लिखती हैं ...सहज भावों में व्‍यक्‍त इस प्रस्‍तुति के लिये बहुत-बहुत बधाई

संजय भास्कर ने कहा…

आदरणीय पूनम जी
सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।
...वाह क्या बात है,बहुत खूब
हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति के लिये बधाई के साथ शुभकामनायें ।

Kailash C Sharma ने कहा…

इन आंसुओं का भरोसा क्या कब बरस जायें

खुशी हो गम दोनों में रिश्ते निभाता गया।


बहुत सुन्दर प्रस्तुति...हरेक शेर बहुत उम्दा..आभार

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

bhut sundar ehsaso ko shabd diya hai aapne...maza aa gaya padhkar..bhut sundar

Suman ने कहा…

सच में बड़ा अजब रिश्ता है
इन आसुओंसे, ख़ुशी में भी छलक जाते है
गम में भी छलक जाते है !
पूनम जी अच्छी रचना है !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

भावनायें पानी बन बहती हैं, पानी सी बहती हैं।

Apanatva ने कहा…

pooree tour se bhiga gayee ye rachana.
ab kaisee ho?
please apna poora dhyan rakho .
shubhkamnae .

somali ने कहा…

sach kaha aapne aansoo khushi or gam dono me saath nibhaate hain,bahut sundar abhivyakti

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब

पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।

इन आंसुओं का भरोसा क्या कब बरस जायें

खुशी हो गम दोनों में रिश्ते निभाता गया

बहुत सुंदर पूनम जी..... आंसुओं से यूँ ही जीवन भर रिश्ता बना रहता है....

Babli ने कहा…

हंसी बिखेरती रही झूठी मुस्कान ओढ़ कर
पर वो बेमुरौव्वत हाले दिल बयां कर गया।
सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब
पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।
बहुत सुन्दर पंक्तियाँ! लाजवाब रचना! बधाई!
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://www।seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen।blogspot.com/

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब

पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।

ye mardood sach ...........bahut jaldi apne aage se mukhota hata deta hai...!!

bahut pyari rachna...poonam jee!

BrijmohanShrivastava ने कहा…

बहुत सुन्दर पक्तिंया कि झूठ में मुस्कराते रहे, हंसते रहे मगर आंसुओं ने सारा राज खोल दिया । दिल की भावनायें जब आंखों में उतर आईं तो एक लहर आई उसे कैसे कोई रोक पाता जब कि पीछे से दूसरी ने धक्का मार दिया । आंसुओं का वैसे तो भरोस नहीं कब बरस जायें परन्तु इन्हे बरसात में ही बरसना चाहिये ताकि आंखें भीगे होने का एक बहाना मिल जाय

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

पूनम बहन!
कविता के भाव बहुत कोमल हैं. अभिव्यक्ति और भी नाज़ुक... कई बार लोगों ने इसे अपनी अपनी कविता में अलग अलग तरीके से बयान किया है.. लेकिन ये जज़्बात हर किसी की ज़िंदगी से जुड़े हैं,लिहाजा हमेशा अपनेपन का एहसास देते हैं.
सुन्दर प्रस्तुति!!

mahendra srivastava ने कहा…

इन आंसुओं का भरोसा क्या कब बरस जायें

खुशी हो गम दोनों में रिश्ते निभाता गया।

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब
पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।

पूनम जी वाकई हर लाइन में एक सुंदर भाव है। रचना कई बार पढता रह गया। बहुत बहुत शुक्रिया

Er. सत्यम शिवम ने कहा…

आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (04.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
चर्चाकार:-Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)
स्पेशल काव्यमयी चर्चाः-“चाहत” (आरती झा)

सतीश सक्सेना ने कहा…

आंसू कई बार बहुत साथ देते हैं, शुभकामनायें !!

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Zakir Ali 'Rajnish') ने कहा…

पूनम जी, अनुभूतियों की पराकाष्‍ठा है यह रचना।

---------
कौमार्य के प्रमाण पत्र की ज़रूरत?
ब्‍लॉग समीक्षा का 17वाँ एपीसोड।

ashish ने कहा…

sundar chiitakarshak bhavo ko aapne sundar shabd diye hai . roman me comment aur der se aane ke liye kshama,

डा. श्याम गुप्त ने कहा…

इन आंसुओं का भरोसा क्या कब बरस जायें

खुशी हो गम दोनों में रिश्ते निभाता गया।


sundar...

Richa P Madhwani ने कहा…

एक लहर आई और पलकों पर ठहरी
अच्छी लगी ..

Rachana ने कहा…

इन आंसुओं का भरोसा क्या कब बरस जायें

खुशी हो गम दोनों में रिश्ते निभाता गया।
sunder bhav
bahut gahri baat kahi aapne
rachana

नश्तरे एहसास ......... ने कहा…

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब
पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।
kitni hi saralta se sacchai likh di in aansuon ka kya kab kahan baras jaye,dard rakhne walon ko inke liye bahut se bahane rakhne pad jate hain.ma'am aapke blog ko ek ek kar padh rhi hoon bahut hi umda lekhti hai aap.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

एक लहर आई और पलकों पर ठहरी

पर दूसरी साथी लहरों ने उसका साथ दे दिया।


हंसी बिखेरती रही झूठी मुस्कान ओढ़ कर

पर वो बेमुरौव्वत हाले दिल बयां कर गया।

ये आँसू सब कुछ बयान कर देते हैं ...

Saras ने कहा…

बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति !

sangita ने कहा…

किस बात पर ये छलक पड़े किसको गुमां हो पाया।बहुत खुबसूरत शेर,हमारी ओर से मुबारकवाद कुबूल करें ...बहुत ही सुंदर .

***Punam*** ने कहा…

सोचा था महफ़िल में झूठ की पहने रहूं नकाब

पर सच के आगे वो भी बेनकाब हो गया।


इन आंसुओं का भरोसा क्या कब बरस जायें

खुशी हो गम दोनों में रिश्ते निभाता गया।


bahut sundar ehsaas....