रविवार, 8 मई 2011

माँ तेरी याद में……









माँ तेरी कोख में जनम लिया

कोई इससे बड़ा वरदान नहीं

तेरे दिल से निकले आशीर्वचन

मुझसे बड़ा धनवान नही

तूने जो सन्स्कार दिये मुझको

उससे बड़ा कोई रत्न नही

हर पग-पग पर जो सीख मिली तुझसे

उससे बड़ा कोई ज्ञान नही

मुश्किलों में भी चट्टानो से टकराकर

मेरे लिये हरदम मुस्कान बनी

स्नेह,त्याग,ममता की जननी

तुझसे बड़ा कोई मान नही

माँ-माँ तू केवल माँ है मेरी

मेरे लिये तुझसे बड़ा भगवान नही

तुझसे ही तो जाना हमने होते हैं भगवान भी

तुझमें पाते सारे वो रूप,तुझ सम कोई और नहीं

माँ मेरा हर जीवन

हर पल है तुझपे क़ुर्बान

ॠण तेरा कभी ना चुक सकता माँ

पर ये मेरा तुझपर उपकार नही

शत-शत नमन तुझे ओ मेरी माँ

तू मिले मुझे हर जनम-जनम

यादों मे बसी,साँसों मे समाई

ओ माँ,

कैसे कहूँ कि तू अब मेरे पास नहीं…॥

000

पूनम

52 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

माँ का आशीर्वाद हमेशा पास रहता है ..अच्छी प्रस्तुति

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर रचना, मां तो हमेशा पास ही रहती हे हम सब के

Anand Dwivedi ने कहा…

तेरे दिल से निकले आशीर्वचन

मुझसे बड़ा धनवान नही

तूने जो सन्स्कार दिये मुझको

उससे बड़ा कोई रत्न नही

हर पग-पग पर जो सीख मिली तुझसे

उससे बड़ा कोई ज्ञान नही
...
sach me maa ka koi vikalp nahi bhagwaan bhi nahi...!

ज्ञानदत्त पाण्डेय Gyandutt Pandey ने कहा…

मां का साया सबसे बड़ी सुकून की बात होती है और उनकी उपस्थिति का अहसास भगवान के अस्तित्व से किसी तरह कम नहीं!
आपकी पोस्ट के लिये बहुत धन्यवाद पूनम जी।

चैतन्य शर्मा ने कहा…

माँ से अच्छा माँ प्यारा कोई नहीं.... हैप्पी मदर्स डे

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

उन चरणों पर सब अर्पण हो।

रचना दीक्षित ने कहा…

तूने जो सन्स्कार दिये मुझको
उससे बड़ा कोई रत्न नही
हर पग-पग पर जो सीख मिली तुझसे
उससे बड़ा कोई ज्ञान नही.

माँ के आशीर्वाद से बड़ा कुछ नहीं. जिसके पास माँ का आशीर्वाद जिसके पास है उससे ज्यादा धनवान कोई नहीं.

शालिनी कौशिक ने कहा…

maa ke bare me bahut sundar bhavon ko prastut kiya hai aapne.Happy Mother's Day .

शालिनी कौशिक ने कहा…

माँ-माँ तू केवल माँ है मेरी मेरे लिये तुझसे बड़ा भगवान नही
bahut sundar bhav

sarita ने कहा…

ma ke prati udgaro lee abhivykti aankhe nam kar gayee .unke diye sanskar aur sadaiv margdarshan karte rahte hai aur aasheervad to hai hee sath........

SAJAN.AAWARA ने कहा…

MAA SE BDA BHAGWAN NAHI. YE SACH HAI KI MAA KA RISTA SABSE BDA RISTA HOTA HAI. HUM JAB CHOTE HOTE HAIN TO MAA KA PYAR MILTA HAI. JAB BDE HO JAATE HAIN TO MAA EK DOST KI TRAH HUMARA SATH DETI HAI, MAA SE AGAR HUM KUCH CHUPANA BHI CHAHEN TO MAA KO PTA CHAL HI JATA HAI. MAA EK ESA SABD HAI JISKE BARE ME BTANE ME SHARE SABD CHOTE PAD JAYE. . . MUJHE BANGAL KI EK BAAT ACHI LAGTI HAI KI WAHAN PAR HAR NAAM KE BAAD MAA SABD JOD DIYA JATA HAI JAISE KI, DIDI MAA, BHABI MAA , CHACHI MAA, OR MAA TO MAA HAI HI. . . . . MAA TUJHE SALAAM. . . . . . . . . JAI HIND JAI BHARAT.

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

पूनम!
इस कविता पर कोइ टिप्पणी की ही नहीं जा सकती.. सिर्फ सर नवाया जा सकता है!! प्रणाम हर माँ को!!

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

माँ मेरा हर जीवन
हर पल है तुझपे क़ुर्बान
ॠण तेरा कभी ना चुक सकता माँ
बहुत सुंदर लिखा है आपने पूनमजी ..... माँ सर्वोपरि है..... उसका ऋण कोई नहीं चुका सकता ......

Suman ने कहा…

bshut sunder rachna........maa ki mamata ka koi mol chukaya nahi ja sakta ..........

दीर्घतमा ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना ,मत्री भक्ति को प्रणाम बहुत अच्छा लगा ----धन्यवाद.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

माँ को प्रणाम!
मातृदिवस पर बहुत सुन्दर रचना लिखी है आपने!
--
बहुत चाव से दूध पिलाती,
बिन मेरे वो रह नहीं पाती,
सीधी सच्ची मेरी माता,
सबसे अच्छी मेरी माता,
ममता से वो मुझे बुलाती,
करती सबसे न्यारी बातें।
खुश होकर करती है अम्मा,
मुझसे कितनी सारी बातें।।
--
http://nicenice-nice.blogspot.com/2011/05/blog-post_08.html

रश्मि प्रभा... ने कहा…

कैसे कहूँ कि तू अब मेरे पास नहीं... maa kabhi door nahin hoti, dhadkanon se judi hoti hai, garbhnaal ka rishta adbhut hota hai

Deepak Saini ने कहा…

माँ को प्रणाम

ZEAL ने कहा…

mesmerizing memories.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

माँ तो हमेशा हमेशा साथ ही रहती है ... किसी न किसी रूप में ... दिल को छूने वाली कविता है ...

shikha varshney ने कहा…

माँ बेशक पास न हो पर साथ हमेशा होती है.
सुन्दर प्रस्तुति.

mahendra srivastava ने कहा…

जी बहुत अच्छी रचना... मुनव्वर राना की दो लाइने याद आ रही हैं..

मां मेरे गुनाहों को कुछ इस तरह से धो देती है,
जब वो बहुत गुस्से में होती हैं तो रो देती है।

ऐ अंधेरे देख ले मुंह तेरा काला हो गया,
मां ने आंखे खोल दी घर में उजाला हो गया।

सदा ने कहा…

मां के लिये कहा गया हर शब्‍द ...अनमोल है ।

Patali-The-Village ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति|माँ का आशीर्वाद हमेशा पास रहता है|

CS Devendra K Sharma "Man without Brain" ने कहा…

janni janmbhushcha swargaadapi gareeyasi.....

maa ko shat shat naman...

bahut sunder rachna!!!!

Rakesh Kumar ने कहा…

माँ तेरी कोख में जनम लिया कोई इससे बड़ा वरदान नहीं तेरे दिल से निकले आशीर्वचन मुझसे बड़ा धनवान नही तूने जो सन्स्कार दिये मुझको उससे बड़ा कोई रत्न नही हर पग-पग पर जो सीख मिली तुझसे उससे बड़ा कोई ज्ञान नहीमुश्किलों में भी चट्टानो से टकराकर मेरे लिये हरदम मुस्कान बनी स्नेह,त्याग,ममता की जननी तुझसे बड़ा कोई मान नही माँ-माँ तू केवल माँ है मेरी मेरे लिये तुझसे बड़ा भगवान नही तुझसे ही तो जाना हमने होते हैं भगवान भी तुझमें पाते

इसीलिए तो भगवान को भी 'त्वमेव माता '
कहकर बुलाते हैं.
माँ को समर्पित आपकी इस शानदार प्रस्तुति को शत शत नमन.
आप मेरे ब्लॉग पर आने में क्यूँ देर लगा रहीं हैं.कोई नाराजगी तो नहीं न ? आपकी सुन्दर टिपण्णी से मैं अभिभूत हों जाता हूँ.कृपया,निराश न कीजियेगा.

Surendrashukla" Bhramar" ने कहा…

माँ मेरा हर जीवन

हर पल है तुझपे क़ुर्बान

ॠण तेरा कभी ना चुक सकता माँ
पूनम जी माँ की ममता में लिखी खूबसूरत रचना जितना भी लिखिए कम है उपर्युक्त पंक्तियाँ बहुत सुन्दर
सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर ५

सतीश सक्सेना ने कहा…

सही समर्पण है माँ को .....
इनसे बड़ा कोई नहीं ! शुभकामनायें !

पंकज मिश्रा ने कहा…

सुंदर रचना
हैप्पी मदर्स डे

minoo bhagia ने कहा…

सभी माओं को नमन , सच में माँ तो माँ होती है

संजय भास्कर ने कहा…

आदरणीय पूनम जी
नमस्कार !
माँ के आशीर्वाद से बड़ा कुछ नहीं
..........दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

संजय भास्कर ने कहा…

माँ शब्द में ही
एक अदृश्य शक्ति होती है
माँ कहते हीमाँ से बढ़कर कोई नहीं इस दुनिया में
बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत सुन्दर रचना! आपकी लेखनी की जितनी भी तारीफ़ की जाए कम है!

कविता रावत ने कहा…

माँ से प्यारा कोई नहीं....
माँ का आशीर्वाद हमेशा पास रहता है ..
सुन्दर प्रस्तुति.

अविनाश मिश्र ने कहा…

maa ka pyar to anant hai... bahut sundar prastuti

Rakesh Kumar ने कहा…

तबियत खराब होने के बाबजूद आप मेरे ब्लॉग पर आयीं इसके लिए मै आपका तहे दिल से आभारी हूँ.
आपकी विनम्रता और सहृदयता सराहनीय एवम अनुकरणीय है.मेरे कारण आपको जो कष्ट हुआ उसके लिए मै आप से क्षमा मांगता हूँ.आपकी सुन्दर विस्तृत टिपण्णी के लिए भी बहुत बहुत आभार .
यदि आपको समय मिले तो कल जी न्यूज चैनल के मंथन प्रोग्राम (सुबह ६.३० से ७.०० बजे)को देखिएगा. मै भी उसमें अपने विचार 'सीता नवमी'के अवसर रखूँगा.

mridula pradhan ने कहा…

maa kabhi door nahin jati.......

Rakesh Kumar ने कहा…

किन्ही कारणवश जी न्यूज चैनल के आज के मंथन प्रोग्राम में मेरा कार्यकर्म रद्द हों गया है.आपको हुई किसी भी असुविधा के लिए मुझे खेद है.

Rachana ने कहा…

ma se bada koi nahi hota sach kaha aapne bahut sunder likha hai
मेरे लिये तुझसे बड़ा भगवान नहीतुझसे ही तो जाना हमने होते हैं भगवान भी तुझमें पाते सारे वो रूप,तुझ सम कोई और नहींमाँ मेरा हर जीवन हर पल है तुझपे
sach ma se badha to bhagvan bh nahi haii
rachana

BrijmohanShrivastava ने कहा…

भाव के साथ साथ शब्दों का उत्तम चयन

JHAROKHA ने कहा…

idhar swasthy kuchh jyada hi kharab hone ki vajah se mpurnain apne aadarniy avam priy biogers jano se dil se xhma chati hun.mujhe bahut hi afsos ho raha hai ki main aap sabhi ke posto ko padh kar un par comments nahi de pa rahi hun. sach mujhe bahut bahut dukh ho raha hai .
apni post to shrimaan ji se ya beti se kisi tarah dalwa deti hun .par comments main khud hi post ko padh kar deti hun.
is baar comments dalne me bahut hi der ho rahi hai
par majbur hun .kya karun.
aasha hi nahi mujhe purn vishwas hai ki aap sabhi apne ashish v sneh
ko yun hi mujh par banaye rakhenge.thoda bhi theek houngi to punah koshish karungi ki aap sabhi blog tak pahunch sakun .thodi der ho sakti hai.kyon ki aaj kal net par aa hi nahi paati hun .
is vilmb ke liye sabhi se dil se bahut bahut xhma chahti hun.
aap sbhi ko hardik dhanyvaad
poonam

ashish ने कहा…

देर से आने के लिए क्षमा प्रार्थी हूँ .माँ से बड़ा कोई धन , कोई धर्म और कोई पूजा नहीं .

Ravi Rajbhar ने कहा…

Bas yahi mera dil bhi kahta hai..
Bin Maa ke ik pal bhi jana muskil hai mere liye.

G.N.SHAW ने कहा…

पूनम जी ..माँ की ममता .....म से ही शुरू होती है और हर म से शुरू होने वाले शब्द में मिलती है ! आप आज कल अस्वस्थ है ! अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दे ! साई बाबा का नाम ले ! सब कुछ ठीक हो जाएगा ! टिपण्णी के बारे में न सोंचे ! स्वास्थ्य ही जीवन है ! साई बाबा के बारे में पोस्ट किया हूँ , पढ़े और उनका ध्यान करें !

Kunwar Kusumesh ने कहा…

बहुत बढ़िया प्रस्तुति.

Babli ने कहा…

माँ से बढ़कर दूजा कोई नहीं! माँ की ममता और प्यार अमूल्य होता है! बहुत सुन्दर रचना! दिल को छू गयी हर पंक्तियाँ!

Navin ने कहा…

बहुत ही सुंदर रचना.

जिसको नही देखा हमने कभी, फिर उसकी जरुरत क्या होगी,
हे, मां, तेरी सुरत से अलग, भगवानकी मुरत क्या होगी?
... गाना याद आ गया.

pramod kush ' tanha' ने कहा…

behad sanjeeda khayaal..khoobsurat rachna...

veerubhai ने कहा…

भाव बोध से भरी भरी हर दम रहती थी माँ .

Hamarivani ने कहा…

क्या आप हमारीवाणी के सदस्य हैं? हमारीवाणी भारतीय ब्लॉग्स का संकलक है.


अधिक जानकारी के लिए पढ़ें:
हमारीवाणी पर ब्लॉग पंजीकृत करने की विधि

हमारीवाणी पर ब्लॉग प्रकाशित करने के लिए क्लिक कोड लगाएँ

Amrita Tanmay ने कहा…

माँ.. माँ.. माँ..सुंदर रचना.. कोमल और हृदयस्पर्शी भाव हैं...मन को छू गए ..

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…

आदरणीया पूनम जी
सादर सस्नेहाभिवादन !

विलंब से आया हूं इतनी हृदयग्राही पोस्ट पर …
मां ! तू केवल मां है मेरी
मेरे लिये तुझसे बड़ा भगवान नही…

नमन है … इससे बड़ी भावना भी नहीं … बहुत सुंदर !

आपकी रचना बहुत भावमयी है … और यही क्या आपकी सब रचनाओं में सुंदर भाव समाहित होते हैं ।

आपके लिए सादर समर्पित मेरे एक गीत की कुछ पंक्तियां -
हृदय में पीड़ा छुपी तुम्हारे , मुखमंडल पर मृदु - मुसकान !
पलकों पर आंसू की लड़ियां , अधरों पर मधु - लोरी - गान !
धन्य तुम्हारा जीवन है मां ! तुम पर तन मन धन बलिदान !
तुम पर जग न्यौछावर माता ! स्वत्व मेरा तुम पर बलिदान!!

तेरा जीवन - चरित निहार' स्वर्ग से पुष्प बरसते हैं मां !
तुम- सा क़द - पद पाने को स्वयं भगवान तरसते हैं मां !
चरण कमल छू'कर मां ! तेरे , धन्य स्वयं होते भगवान !
धन्य तुम्हारा जीवन है मां ! स्वत्व मेरा तुम पर बलिदान !!


# कृपया , स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखें…
आप शीघ्रातिशीघ्र पूर्ण स्वस्थ हों !

समय मिलने पर मेरे ब्लॉग में निम्नांकित लिंक पर उपरोक्त पूरे गीत सहित मां संबंधी मेरी तीन रचनाएं देखें
मां ! तेरे कदमों तले जन्नत …


हर्दिक शुभकामनाएं ! मंगलकामनाएं !
- राजेन्द्र स्वर्णकार

नश्तरे एहसास ......... ने कहा…

Aapki is "MAA" ko samarpit rachna mein likha har shabd behtareen hai!!

aapki neha:)