सोमवार, 22 अगस्त 2011

ओ रे कन्हैया


उद्धव जाये कहियो कान्हा से सब हाल

राधे संग सखियन बेहाल

जानत रहियो जब जावन तुमको

काहे बढ़ायो मोह का जाल।

नज़रें इत उत डोलत हैं

मन कान्हा-कान्हा बोलत है

थकि थकि गये हम टेरत

टेरत नैना बाट जोहत हैं।

तुम तो बिसरा गयो हमको

पर हम तो अब भी तिहारी हैं

प्रीति की डोर ना टूट सके

ये रीति बनाई भी तुम्हरी है।

बचपन मा हम संग संग बाढ़े

मिलके रास रचायो खूब

बालापन में गोपियन संग

तूने नटखटपन दिखलायो खूब।

सुनने की तान मुरलिया की

तरसे बरसों हमरे कान

अब भी आ के सुर बिखराओ

हे नटवर नागर,हे घनश्याम।

होठों पे तेरे सजे बँसुरिया

अब मोहे तनिक भी भावे ना

वो तो पहिले थी ही वैरन

अब तो सौतन सी लागे न।

पर राधा तो तुम्हरी दीवानी

जो तुझको वो हमको भावे

जिया ना लागे मोरा तुझ बिन

तनिक ना पल कोई रास आवे।

यादों में तुम हमरी बसे

जिया में हूक उठत है श्याम

तुम सारे जग रे पियारे

पर मनवा हमरे बसे तिहारो नाम।

बड़ी देर भई तेरी राह निहारे

अब भी दया दिखावत नाहि

हमरी नगरिया फ़िर कब अइहो

बतला दो अब भी निरमोही कन्हाई।

000

पूनम

37 टिप्‍पणियां:

Rakesh Kumar ने कहा…

होठों पे तेरे सजे बँसुरिया

अब मोहे तनिक भी भावे ना

वो तो पहिले थी ही वैरन

अब तो सौतन सी लागे न।


पर राधा तो तुम्हरी दीवानी

जो तुझको वो हमको भावे

जिया ना लागे मोरा तुझ बिन


वाह! पूनम जी वाह!
आपकी अनुपम प्रस्तुति ने तो दिल चुरा लिया है.
बहुत सुन्दर भाव अभिव्यक्त किये है आपने.

जन्माष्टमी के पावन पर्व पर बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएँ.

समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

पूनम बहिन,
अद्भुत प्रस्तुति कान्हा के जन्मदिवस पर!!

शालिनी कौशिक ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें.

शिखा कौशिक ने कहा…

bahut sundar prastuti .aabhar

BLOG PAHELI NO.1KA PARINAM

Dr.Bhawna ने कहा…

Bahut sundar rachna ...hardik shubhkamnayen..

सतीश सक्सेना ने कहा…

जन्माष्टमी के मौके पर एक खूबसूरत रचना ...शुभकामनायें आपको !

देवेश प्रताप ने कहा…

sundar prastuti...

रश्मि प्रभा... ने कहा…

uddhaw itni kahiyo jaye- kanha ka dukh jane n koi

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति!
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ!

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सुन्दर प्रस्तुति ....हर गोपी के मन की बातों को शब्दों में उतारा है

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वाह पूनम जी ... जवाब नहीं राधा और गोपिकाओं के इस संदेस का ... लाजवाब प्रस्तुति कृष्ण-जन्माष्टमी पर ...

mahendra srivastava ने कहा…

बहुत सुंदर रचना
शुभकामनाएं.

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति!
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की शुभकामनाएँ!

वन्दना ने कहा…

वाह बहुत सुन्दर भाव संयोजन्……………क्या खूब कहा है………शानदार्।

सदा ने कहा…

वाह ...बहुत ही बढि़या ।

: केवल राम : ने कहा…

सुंदर भावों का सयोंजन ....कविता को सार्थक करता है ....आपके लेखन को पढना एक अनोखा अनुभव है ....आपका आभार

Ravi Rajbhar ने कहा…

Jai Shree Krishna,
padh kar dil jhum gaya....

aur har bar ki tarah is bar bhi ham apki kalam ko naman kar gaye..!

der se ane ke liye mafi chaunga..
kux dino ke liye culcutta chala gaya tha.

Abhar

दीर्घतमा ने कहा…

जन्म अष्टमी पर हार्दिक शुभकामना ,भगवन कृष्ण पर बहुत अच्छी प्रस्तुति पर बहुत-बहुत धन्यवाद.

रचना दीक्षित ने कहा…

हाथी घोडा पालकी जय कन्हैया लाल की. जन्माष्टमी पर सुंदर कविता के रूप में याद किया आपने कन्हैया को. उम्दा.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

प्रेमपूर्ण उलाहना।

virendra ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
G.N.SHAW ने कहा…

पूनम जी समयाभाव की वजह से देर से आया ! आप को कृष्ण जन्माष्ठमी की शुभकामनाये !मेरे ब्लॉग पर आप आये और मेरे पत्नी की हौसला अफजाई करे ?

ashish ने कहा…

राधा श्याम की बातें दिल को हर्षित करती है . सुँदर भावप्रवण रचना .

सुमन'मीत' ने कहा…

jai radhe krishna...

मदन शर्मा ने कहा…

अच्छी प्रस्तुति हार्दिक शुभकामनाएं!

Kailash C Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति..

Rachana ने कहा…

होठों पे तेरे सजे बँसुरिया

अब मोहे तनिक भी भावे ना

वो तो पहिले थी ही वैरन

अब तो सौतन सी लागे न
bahut sunder
rachana

पी के शर्मा ने कहा…

प्रिय दोस्तों ,
मेरे ब्लॉग को गूगल ने मिटा दिया है ,अत आपसे अनुरोध है की आप मेरे नए ब्लॉग www.pkshayar.blogspot.com पर पधार कर मेरा मार्गदर्शन करे ,
तथा फोलोवर बनकर मुझे आश्रीवाद प्रदान करे .

कविता रावत ने कहा…

badia krishnamayee rachna prastuti ke liye aabhar!
Ganesh Chaturthi kee haardik shubhkamnayen!

Babli ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण रचना! उम्दा प्रस्तुती!
आपको एवं आपके परिवार को गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें!
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://seawave-babli.blogspot.com/
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

आशा जोगळेकर ने कहा…

कृष्ण जयंती पर रची आपकी ये सुंदर कविता राधा और गोपियों के कृष्ण प्रेम को उजागर कर रही है ।
राधा यानि मोक्ष प्रप्ति हेतु तडपने वाला जीव और कृष्ण ही मोक्ष ।

Maheshwari kaneri ने कहा…

अद्भुत प्रस्तुति कान्हा के जन्मदिवस पर!!....

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

बहुत सुंदर।

virendra ने कहा…

pradamya poonam ji sach to yeh hai ki man moh gayee aapkee srikrishna roop maadhuri ,man prafullit huvaa ki vanshiwaale tere aaraadhak is akinchan ke atirikt aur bhi hain ,kaise kahen ki yeh vaachaal bhi baal krishana kee roop maadhuree kaa pyaasaa hai kintu jeevan path par itnaa kuhaasaa hai ki apnaa haath hee jagannaath hai .vrij kee aankh kaa taaraahar pal saath hai ,aanand manaayaa kartaa hoon ,vaasudev naam ke bhajan gaayaa kartaa hoon tippadee padh kar man-----bahut bahut dhanyawaad .kripyaa vrindaavan aayen aur gungunaayen -- vandan he ouddhav pyaarey----------

Udan Tashtari ने कहा…

देर से आने की माफी...बहुत सुन्दर प्रस्तुति!!

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

पूनम जी बहुत ही सुन्दर कविता आपको बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं|ब्लॉग पर आने हेतु आभार

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

पूनम जी बहुत ही सुन्दर कविता आपको बहुत बहुत बधाई और शुभकामनाएं|ब्लॉग पर आने हेतु आभार