मंगलवार, 24 अगस्त 2010

भाई के नाम एक संदेश


रक्षाबंधन के पावन पर्व पर सभी

को हार्दिक शुभकामनायें।

भाई के नाम एक संदेश

अबकी बरस भैया

राखी पे ज़रूर आना

अब चलेगा ना भैया कोई बहाना।

काम से ले के आना

तुम ज़रूर छुट्टी

वरना मैं कर लूंगी

तुझसे फ़िर से कुट्टी।

जैसे बचपन में मैं रूठ जाती थी

लाख मनाते थे तुम

फ़िर भी मैं तो थी ही ज़िद्दी।

लड़ती झगड़ती तुमसे

पाने को नेह तुम्हारा

राखी तो कहती है

ये दिन है खास हमारा।

पर किसी के लिये

ना दिन कोई खास होता

हर पल हर दिल में

भैया तेरा ही नेह बरसता।

अबकी भैया तुम राखी पे आना

मुझको कलाई पे है तेरे राखी सजाना

टीका लगा के माथे

लूँगी बलायेँ

मेरे भैया की उमरिया

लंबी हो जाय।

आँचल फ़ैला के भैया

मैं तुझसे नेग लूँगी

अपने प्यारे भैया का

ढेर सारा प्यार लूँगी

नेह का बंधन है भैया।

ऐसे ही अटूट रहे

हाथ तेरा मेरे सिर पर

ढेरों आशीष मिले

और कुछ ना माँगू तुझसे

बस इतनी सी बात माँगू

जब भी पुकारूँ तुमको

तुम दौड़े चले आना।

ये न कच्चे धागे की डोर

इसको न समझना कमज़ोर

ये रक्षा बँधन की डोर

इसका नहीं है कोई छोर।

बंद करती भैया अब मैं ये पाती

खत के जवाब में तुम

खुद ही चले आना

बहना के नैन सजल

भर भर हैं आतीं।

अखियाँ तो बस अब

तेरी बाट हैं जोहती

राखी का पर्व भैया

तुमको मुबारक

बातें बचपन की याद

आती हैं एक एक ।

बहना की आस ना टूटे

आना ज़रूर से

ये रिश्ता है सबसे पाक

निभाना ज़रुर से।

000

पूनम

33 टिप्‍पणियां:

Sunil Kumar ने कहा…

रक्षाबंधन के अवसर पर भाई की याद में सुंदर रचना ,बधाई

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

भाई - बहन का चलता है मान मनौवल ...अच्छी रचना .

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

बहुत सुंदर रचना. एक एक शब्द मन से निकला हुआ और प्रर्थना है की आपके भैया आपकी ये मनोकामना जरूर पूरी करें.

मनोज कुमार ने कहा…

बहुत उम्दा भावाभिव्यक्ति!

दीर्घतमा ने कहा…

बहुत सुन्दर अभिब्यक्ति भाव बिभोर करने वाली जो किसी भी भाई को सोचने को मजबूर कर सकती है .
राखी पर आपको हार्दिक शुभकामनाये ,मानकर चलरहे है कि हमें राखी मिल gaयीं है .

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

नेह भरी उलाहना।

रानीविशाल ने कहा…

बहुत सुंदर रचना...
मेरे भैया .....रानीविशाल
रक्षाबंधन की ढेरों शुभकामनाए !!

राज भाटिय़ा ने कहा…

आप को राखी की बधाई और शुभ कामनाएं.

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

मैं तो स्वयम् अपराधी हूँ... छुट्टी लेकर जा नहीं पाता.. लेकिन बहनें भाइयों की मजबूरी समझती हैं... बहुत सुंदर उलाहना भाइयों को ..

अजय कुमार ने कहा…

भाई-बहन के मजबूत रिश्तों का पर्व रक्षाबंधन सब भाई-बहनों के रिश्तों मे मजबूती लाये

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुंदर रचना...
--
रक्षाबंधन की हार्दिक शुभकामनाएँ !!

हास्यफुहार ने कहा…

बहुत अच्छी कविता।
:: हंसना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है।

Mithilesh dubey ने कहा…

रक्षाबंधन की ढेरों शुभकामनाए

रचना दीक्षित ने कहा…

रक्षाबंधन के अवसर पर बहुत सुंदर रचना

Deepak Shukla ने कहा…

hi..

Har Rakhi par Bahna karti..
Apne Bhai ko hai yaad...
gar bhai na aaye gar to..
hothon par rahti fariyaad...

dua kare wo saara jeevan...
Bhai sada khushhaal rahe...
sukh, samrudhi aur khushiyon se..
bhai maalamaal rahe...

Bhai ke bhi dil main rahta...
Bahana sada hi muskaaye...
har pal khushiyon main beete...
wo apne ghar main sukh paaye...

yahi prem ke bandhan hai wo..
jinme bhai-bahan bandhe...
ek dooje ke sukh-dukh main wo..
dil se sada hi rahe jude...

sundar bhav...

Deepak....

Prarthana gupta ने कहा…

thanx once again for sharing my blog.all sisters have the same feelings......

sandhyagupta ने कहा…

रचना ने दिल को छु लिया.देर से सही रक्षाबंधन की ढेरों बधाई और शुभकामनायें.

महेन्द्र मिश्र ने कहा…

bahut badhiya rachana. rakshabandhan parv ki badhai...

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत सुंदर, हार्दिक शुभकामनाएं.

रामराम.

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

WAAH WAAH

KYA KHOOB LIKHA HAI , MAN KO CHOO GAYI KAVITA .. BADHYI HO ..RAKHI PAR ISE ACCHI PRASTITU KOI AUR HO HI NAHI SAKTI ..

VIJAY
आपसे निवेदन है की आप मेरी नयी कविता " मोरे सजनवा" जरुर पढ़े और अपनी अमूल्य राय देवे...
http://poemsofvijay.blogspot.com/2010/08/blog-post_21.html

दिगम्बर नासवा ने कहा…

वाह .. रक्षा बंधन के दिल इतनी सुंदर ... दिल भर आने वाली रचना ....
कोई भाई शायद ही रुक सके इसे पढ़ कर .....लाजवाब ...

hem pandey ने कहा…

ये रिश्ता है सबसे पाक निभाना ज़रुर

- भाई बहन का रिश्ता है ही ऐसा!

PN Subramanian ने कहा…

आत्मीयता भरी सुन्दर रचना. आभार.

Meenu Khare ने कहा…

अच्छी लगी रचना.बधाई.

Vijay Pratap Singh Rajput ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना

Bhushan ने कहा…

मेरे ब्लॉग पर टिप्पणी के लिए धन्यवाद. पहली बार आपका ब्लॉग देखा है. बहन-भाई के बीच चुहल और नटखटपने की कई तस्वीरें आपने खींची है. पूनम बिटिया बहुत-बहुत बधाई. आपका संदेश मैंने रंगकर्मी ज़ुल्फ़िकार को फोन पर दे दिया है. उन्होंने ने सभी बलॉग देखने वालों को 'थिएटर एज' में आने का न्यौता दिया है.

हरकीरत ' हीर' ने कहा…

ये रिश्ता है सबसे पाक
निभाना ज़रुर से।

उम्मीद है भईया ने ये पुकार जरुर सुन ली होगी .....

शुभकामनाएं ....!!

Babli ने कहा…

बहत सुन्दर, प्यारी और भावपूर्ण रचना लिखा है आपने! हर एक शब्द दिल को छू गयी ! रक्षाबंधन के इस पवन पर्व पर ढेर सारी बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

vinita ने कहा…

ऐसा लगा कि हम बचपन में उतेर गये !

Parul ने कहा…

ye sda har behan ki hai..bhaaw sundar hai!

kailash c sharma ने कहा…

Bahan ke ppyar ki bahut sundar aur hradaysparshi abhivyakti.

सत्यप्रकाश पाण्डेय ने कहा…

सुंदर रचना.

kshama ने कहा…

बहना की आस ना टूटे

आना ज़रूर से

ये रिश्ता है सबसे पाक

निभाना ज़रुर से।

Aapne to aankhen nam kar deen!
Poonam ji "Bikhare Sitare" pe "In sitararon se aage 4" me aapkaa tahe dilse shukriya ada kiya hai,tippanee ko yaad karte hue..gaur karen!