सोमवार, 5 जुलाई 2010

वक्त की डोर


कहते हैं जो रात गयी

सो बात गयी ऐसा भी

कभी ही होता है

पर बात जो दिल में जाये उतर

क्या वो लाख भुलाये

भी भूलता है।

ये तो एक बहाना है

अपने मन को बहलाने का

वरना इतना आसान नहीं

जो धोखे पे खाता धोखा है

क्या दिल उसका

इसे मानता है।

है वक्त बड़ा मरहम सबसे

जो बड़े से बड़े घावों को

खुद ही भरता है

पर वो इन्सां करे ही क्या

जिसे वक़्त ही

धोखा देता है।

फ़िर दामन वक्त का जो

हर क्षण है हमसे जुड़ा हुआ

उसके बिन इशारे के

इस जीवन का

इक पत्ता तक

नहीं हिल पाता है।

वक्त के संग संग चलना

मजबूरी नहीं जरूरत है

जो कदम मिला ले

वक्त के संग तो

वक्त भी हम कदम बन जाता है।

जीवन का पर्याय है वक्त

वक्त का मतलब ही जीवन है

सही जीवन तो वही

निभा पाता जो वक्त की

डोर से बंधता है।

000000000

पूनम

33 टिप्‍पणियां:

Amitraghat ने कहा…

"बहुत बढ़िया पूनम जी वक्त के बारे में सही लिखा आपने..."

Apanatva ने कहा…

bilkul sahee baat......aabhar

रौशन जसवाल विक्षिप्त ने कहा…

nice post

Jandunia ने कहा…

खूबसूरत पोस्ट

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

वक्त का पहिया कभी नहीं रुकता
सच्चाई को उजागर करती आपकी रचना अच्छी लगी.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

रात गयी सो बात गयी...कहते तो सब हैं पर कितने भूल पाते हैं चुभे हुए शूलों को....सटीक अभिव्यक्ति

राजेश उत्‍साही ने कहा…

आपकी य‍ह कविता पढ़कर मुझे अपनी एक कविता याद आगई-
कभी हम वक्‍त को बरबाद करते हैं

कभी वक्‍त हमें बरबाद करता है
वक्‍त कैसा भी हो यारो,आदमी
उसे एक दिन याद करता है।

निर्मला कपिला ने कहा…

bबहुत सी बातें ऐसी होती हैं जो इन्सान चाह कर भी नही भूलता
पूनम जी रचना बहुत अच्छी लगी धन्यवाद।

hem pandey ने कहा…

'सही जीवन तो वही

निभा पाता जो वक्त की

डोर से बंधता है।'

- और उस डोर को अपनी सुविधा से खीचता है.

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

सुन्दर भावनाएं ... शब्दों की सजावट भी सुन्दर है ...
एक गीत याद आ गई
"चिंगारी कोई भड़के .."

रश्मि प्रभा... ने कहा…

itna aasan hota to phir dard hi kyun hota ! yaa bachpan kee baaten kyun yaad aatin ...

दिगम्बर नासवा ने कहा…

जीवन का पर्याय है वक्त
वक्त का मतलब ही जीवन है
सही जीवन तो वही
निभा पाता जो वक्त की
डोर से बंधता है।

सच है ... वक़्त बड़ा बलवान है ... जो इसको पकड़ कर चलता है वही सुखी है ...

राकेश कौशिक ने कहा…

"सही जीवन तो वही निभा पाता
जो वक्त की डोर से बंधता है।"

राजेश उत्‍साही ने कहा…

आपकी यह कविता पढ़कर मुझे अपनी एक कविता याद आ गई-

कभी हम वक्‍त को बरबाद करते हैं

कभी वक्‍त हमें बरबाद करता है

अच्‍छा बुरा कैसा भी हो वक्‍त यारो

आदमी उसे एक दिन याद करता है।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

वक्त की डोर तो हम सबको बाँधे हुये है, हम ही छुड़ाकर भाग जाते हैं एक दिन ।

दीर्घतमा ने कहा…

अपने कबिता को मनुष्य की गहराई तक पहुचने क़ा प्रयत्न किया है
आप बहुत अच्छा लिखती है जो ब्याहरिक होता है
धन्यवाद.

अरुणेश मिश्र ने कहा…

वक्त पर आपकी रचना माकूल है । अच्छी तरीके से भाव पिरोये हैं ।

अरुणेश मिश्र ने कहा…

वक्त को आपने अच्छी तरह से अभिव्यक्त किया है ।
प्रशंसनीय ।

रचना दीक्षित ने कहा…

कहते हैं की वक़्त सारे दर्द भर देता है पर ये भी उतना ही सच है की वक़्त ही पुराने दर्द को कुरेदता रहता है बहुत बढ़िया वक्त के बारे में सही लिखा आपने

Divya ने कहा…

वक्त के संग तो

वक्त भी हम कदम बन जाता है।


Waqt ki har shai gulam, waqt ka har shai pe raaj !

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

है वक्त बड़ा मरहम सबसे

जो बड़े से बड़े घावों को

खुद ही भरता है

पर वो इन्सां करे ही क्या

जिसे वक़्त ही

धोखा देता है।

वाह, पूनम जी!...सच्चाई को आपने कितने सुंदर शब्दों में ढाला है!

स्वाति ने कहा…

पर वो इन्सां करे ही क्या

जिसे वक़्त ही

धोखा देता है।
bahut achhi abhivyakti...
mere blog par aane ka shukriya poonam ji...

सुमित प्रताप सिंह ने कहा…

nice post...

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

बहुत सुंदर रचना । वक्त के साथ चलने में ही समझदारी है ।

निर्झर'नीर ने कहा…

सच्चे और सुन्दर भाव है कविता के

Vinay Prajapati 'Nazar' ने कहा…

बहुत सुन्दर कल्पना और कृति

Mahak ने कहा…

Part 1of 4

बहुत दिनों से एक विचार मेरे मन की गहराइयों में हिलोरे खा रहा था लेकिन उसे मूर्त रूप प्रदान करने के लिए आप सबका सहयोग चाहिए इसलिए उसे आप सबके समक्ष रखने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहा था की पता नहीं कहीं वो असफल और अस्वीकार ना हो जाए लेकिन तभी ये विचार भी आया की बिना बताये तो स्वीकार होने से रहा इसलिए बताना ही सही होगा .

दरअसल जब भी मैं इस देश की गलत व्यवस्था के बारे में कोई भी लेख पढता हूँ, स्वयं लिखता हूँ अथवा किसी से भी चर्चा होती है तो एक अफ़सोस मन में होता है बार-2 की सिर्फ इसके विरुद्ध बोल देने से या लिख देने से क्या ये गलत व्यवस्थाएं हट जायेंगी , अगर ऐसा होना होता तो कब का हो चुका होता , हम में से हर कोई वर्तमान भ्रष्ट system से दुखी है लेकिन कोई भी इससे बेहतर सिस्टम मतलब की इसका बेहतर विकल्प नहीं सुझाता ,बस आलोचना आलोचना और आलोचना और हमारा काम ख़त्म , फिर किया क्या जाए ,क्या राजनीति ज्वाइन कर ली जाए इसे ठीक करने के लिए ,इस पर आप में से ज़्यादातर का reaction होगा राजनीति !!! ना बाबा ना !(वैसे ही प्रकाश झा की फिल्म राजनीति ने जान का डर पैदा कर दिया है राजनीति में कदम रखने वालों के लिए ) वो तो बहुत बुरी जगहं है और बुरे लोगों के लिए ही बनी है , उसमें जाकर तो अच्छे लोग भी बुरे बन जाते हैं आदि आदि ,इस पर मेरा reaction कुछ और है आपको बाद में बताऊंगा लेकिन फिलहाल तो मैं आपको ऐसा कुछ भी करने को नहीं कह रहा हूँ जिसे की आप अपनी पारिवारिक या फिर अन्य किसी मजबूरी की वजह से ना कर पाएं, मैं सिर्फ अब केवल आलोचना करने की ब्लॉग्गिंग करने से एक step और आगे जाने की बात कर रहा हूँ आप सबसे

Mahak ने कहा…

आप सोच रहे होंगे वो कैसे ,तो वो ऐसे जनाब की मैं एक साझा ब्लॉग (Common Blog ) create करना चाहता हूँ जिसका की मकसद होगा एक ऐसा मंच तैयार करना जिसपे की हम सब हमारे देश के वर्तमान सिस्टम की खामियों की सिर्फ आलोचना करने के साथ-२ उसका एक तार्किक और बढ़िया हल भी प्रस्तुत करें और उसे बाकायदा एक बिल के रूप में पास करें आपसी बहस और वोटिंग के द्वारा

इस पर आपका कहना होगा की क्या सिर्फ ब्लॉग जगत के द्वारा देश के लिए नए और बेहतर कानून और सिस्टम बनाने से और वो भी सिर्फ ब्लॉग पर पास कर देने से देश का गलत सिस्टम और भ्रष्ट व्यवस्था बदल जायेगी ? तो श्रीमान आपसे कहना चाहूँगा की ये मैं भी जानता हूँ की ऐसा नहीं होने वाला लेकिन ज़रा एक बात सोचिये की जब भी हममें से कोई इस भ्रष्ट और गलत व्यवस्था के खिलाफ आवाज़ उठाता है या भविष्य में भी कभी उठाएगा तो जब इस गलत व्यवस्था के समर्थक हमसे पूछेंगे की -" क्या तुम्हारे पास इससे बेहतर व्यवस्था का प्लान है ?,अगर है तो दिखाओ " , तो क्या आपको नहीं लगता की हमारे पास पहले से वो सही सिस्टम होना तो चाहिए जो उस समय हम उनके सामने पेश कर सकें ,एक बार हम एक सही व्यवस्था का खाका तैयार करने में कामयाब हो गए तो वो दिन दूर नहीं होगा जब हम इसे पूरे देश के सामने भी पेश करेंगे और देश हमारा साथ देगा और इस पर मोहर लगाएगा .

इसीलिए मेरी आप सबसे प्रार्थना है की इसमें सहयोग करें , मैं आपसे आर्थिक सहयाग मतलब रुपया ,पैसे का सहयोग नहीं मांग रहा बल्कि आपसे बोद्धिक सहयोग चाह रहा हूँ ,
हमारे इस common BLOG का नाम होगा
"BLOG Parliament - Search for a right system & laws for the country "

http://blog-parliament.blogspot.com/

इसके मुख्यतः 3 चरण होंगे
1 . अपने बिल अथवा प्रस्ताव की प्रस्तुति और उसपे बहस
2 . उस प्रस्ताव के पक्ष और विपक्ष में वोटिंग
3 . Majority वोटिंग के हक में प्रस्ताव का पास होना अथवा reject होना

Mahak ने कहा…

आप सबसे यही सहयोग चाहिए की आप सब इसके मेम्बर बनें,इसे follow करें और प्रत्येक प्रस्ताव के हक में या फिर उसके विरोध में अपने तर्क प्रस्तुत करें और अपना vote दें
जो भी लोग इसके member बनेंगे केवल वे ही इस पर अपना प्रस्ताव पोस्ट के रूप में publish कर सकते हैं जबकि वोटिंग members और followers दोनों के द्वारा की जा सकती है . आप सबको एक बात और बताना चाहूँगा की किसी भी common blog में members अधिक से अधिक सिर्फ 100 व्यक्ति ही बन सकते हैं ,हाँ followers कितने भी बन सकते हैं
तो ये था वो सहयोग जो की मुझे आपसे चाहिए ,
मैं ये बिलकुल नहीं कह रहा हूँ की इसके बदले आप अपने-२ ब्लोग्स लिखना छोड़ दें और सिर्फ इस पर ही अपनी पोस्ट डालें , अपने-2 ब्लोग्स लिखना आप बिलकुल जारी रखें , मैं तो सिर्फ आपसे आपका थोडा सा समय और बौद्धिक शक्ति मांग रहा हूँ हमारे देश के लिए एक बेहतर सिस्टम और न्याय व्यवस्था का खाका तैयार करने के लिए


1. डॉ. अनवर जमाल जी
2. सुरेश चिपलूनकर जी
3. सतीश सक्सेना जी
4. डॉ .अयाज़ अहमद जी
5. प्रवीण शाह जी
6. शाहनवाज़ भाई
7. जीशान जैदी जी
8. पी.सी.गोदियाल जी
9. जय कुमार झा जी
10.मोहम्मद उमर कैरान्वी जी
11.असलम कासमी जी
12.राजीव तनेजा जी
13.देव सूफी राम कुमार बंसल जी
14.साजिद भाई
15.महफूज़ अली जी
16.नवीन प्रकाश जी
17.रवि रतलामी जी
18.फिरदौस खान जी
19.दिव्या जी
20.राजेंद्र जी
21.गौरव अग्रवाल जी
22.अमित शर्मा जी
23.तारकेश्वर गिरी जी

( और भी कोई नाम अगर हो ओर मैं भूल गया हों तो मुझे please शमां करें ओर याद दिलाएं )

मैं इस ब्लॉग जगत में नया हूँ और अभी सिर्फ इन bloggers को ही ठीक तरह से जानता हूँ ,हालांकि इनमें से भी बहुत से ऐसे होंगे जो की मुझे अच्छे से नहीं जानते लेकिन फिर भी मैं इन सबके पास अपना ये common blog का प्रस्ताव भेजूंगा
common blog शुरू करने के लिए और आपको उसका member बनाने के लिए मुझे आप सबकी e -mail id चाहिए जिसे की ब्लॉग की settings में डालने के बाद आपकी e -mail ids पर इस common blog के member बनने सम्बन्धी एक verification message आएगा जिसे की yes करते ही आप इसके member बन जायेंगे
प्रत्येक व्यक्ति member बनने के बाद इसका follower भी अवश्य बने ताकि किसी member के अपना प्रस्ताव इस पर डालते ही वो सभी members तक blog update के through पहुँच जाए ,अपनी हाँ अथवा ना बताने के लिए मुझे please जल्दी से जल्दी मेरी e -mail id पर मेल करें

mahakbhawani@gmail.com

Mahak ने कहा…

हमारे इस common blog में प्रत्येक प्रस्ताव एक हफ्ते के अंदर अंदर पास किया जायेगा , Monday को मैं या आप में से इच्छुक व्यक्ति अपना प्रस्ताव पोस्ट के रूप में डाले ,Thursday तक उसके Plus और Minus points पर debate होगी, Friday को वोटिंग होगी और फिर Satuday को votes की गणना और प्रस्ताव को पास या फिर reject किया जाएगा वोटिंग के जरिये आये हुए नतीजों से

आप सब गणमान्य ब्लोग्गेर्स को अगर लगता है की ऐसे कई और ब्लोग्गेर्स हैं जिनके बौधिक कौशल और तर्कों की हमारे common ब्लॉग को बहुत आवश्यकता पड़ेगी तो मुझे उनका नाम और उनका ब्लॉग adress भी अवश्य मेल करें ,मैं इस प्रस्ताव को उनके पास भी अवश्य भेजूंगा .

तो इसलिए आप सबसे एक बार फिर निवेदन है इसमें सहयोग करने के लिए ताकि आलोचना से आगे भी कुछ किया जा सके जो की हम सबको और ज्यादा आत्मिक शान्ति प्रदान करे
इन्ही शब्दों के साथ विदा लेता हूँ

जय हिंद

महक

बेचैन आत्मा ने कहा…

सही जीवन तो वही
निभा पाता जो वक्त की
डोर से बंधता है
...सही है. वर्तमान के साथ चलना ही बुद्धिमानी है ।

कविता रावत ने कहा…

Ek baar jo dhokha kha le wah use puri tarah bhula de yah sambhav nahi.... dil mein gahre utari baaten jindagi bhar yaad rahti hai
lekin yah satya ki सही जीवन तो वही निभा पाता जो वक्त की डोर से बंधता है।
Saarthak rachna ke liye shubhkamnayne

shikha varshney ने कहा…

बहुत सही परिभाषित किया वक़्त को.शुभकामनाये