मंगलवार, 30 मार्च 2010

भोर की सुगबुगाहट


भोर की सुगबुगाहट

होती है शुरू

हल्के से उजाले के साथ

चिड़ियों की चूं चूं

कुछ अलसायी कुछ अधखुली आंखें

बाथरूम में तेज पानी की धार

हर हर की आवाज।

कहीं पर सूर्य देव को अर्ध्य

हरी ओम का जाप

घण्टे की आवाज

नमाज की अजान।

कहीं किचन में खटपट खटपट

कहीं तेजी से चलते हाथ

बच्चों को स्कूल भेजने की तैयारी

बिस्तर पर आराम फ़र्माते साहब

गरम चाय की चुस्की

अखबार की हेडलाइन।

अधूरी नींद में

बिना मुंह धोये

गोदी में बच्चे उठाये

तेज तेज कदमों से काम पर

पहुंचने की कोशिश करती

कुछ स्मार्ट कुछ भदभद

औरतें

पीठ पर बोरे लादे

सड़क नापने की

कोशिश करते बच्चे।

सभी की भोर

अलग अलग भोर

हां यही तो है

भोर की सुगबुगाहट।

0000

पूनम

58 टिप्‍पणियां:

Amitraghat ने कहा…

"आपने भोर को एक रिदम दे दी............."

Udan Tashtari ने कहा…

वाह! उम्दा प्रस्तुति!

M VERMA ने कहा…

बहुत सुन्दर
बेहतरीन

sangeeta swarup ने कहा…

अच्छी लगी ये भोर कि सुगबुगाहट....बढ़िया प्रस्तुति

विजयप्रकाश ने कहा…

वाह...भोर का सजीव चित्रण

संजय भास्कर ने कहा…

वाह जी, बहुत उम्दा प्रस्तुति रही

संजय भास्कर ने कहा…

किस खूबसूरती से लिखा है आपने। मुँह से वाह निकल गया पढते ही।

निर्मला कपिला ने कहा…

sunder rachana badhaai aur shubhakamanayen

BrijmohanShrivastava ने कहा…

कविता पर कुछ कमेन्ट लिखूं इससे पूर्व एक शेर याद आरहा है ""यह कभी नहीं हुआ कि मैं खुद कभी सो कर उठूं /घर के हंगामे ही हर रोज़ जगाते हैं मुझे "" आपने प्रभात ,उष:काल ,ब्रह्म मुहूर्त का जो चित्र खींचा है वह सचित्र वर्णन है .चिड़ियों की , पानी की , आवाज , आराधना के स्वर का बर्णन साथ ही जल्दी जल्दी काम का निवटाना और बिस्तर पर आराम करते और चाय का इंतज़ार करते कुछ जागे से कुछ सोये से साहब और बाद में काम पर जाती औरतों का वर्णन कुल मिला कर बहुत सुन्दर रचना है |शीर्षक भी अच्छा लगा भोर की सुगबुगाहट (यदि यह रचना मेरी होती तो मैं शीर्षक देता "अपना अपना भोर ")

manav vikash vigyan aur adytam ने कहा…

bahoot khoob likha hi aap ne

kunwarji's ने कहा…

बहुत सुन्दर,
अच्छी लगी ये भोर कि सुगबुगाहट....
बढ़िया प्रस्तुति

kunwar ji,

रावेंद्रकुमार रवि ने कहा…

बहुत अच्छी है -
भोर की सुगबुगाहट!

रश्मि प्रभा... ने कहा…

bhor ka rupahla drishya .... chitratmak prastutikaran

Babli ने कहा…

वाह बड़े ही सुन्दरता से आपने भोर की सुगबुगाहट को प्रस्तुत किया है! हर एक शब्द हमारे जीवन से जुड़ा हुआ है ! बहुत बढ़िया लगा!

सीमा सचदेव ने कहा…

BHOR kaa sundar chitran

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

भोर की सुगबुगाहट मधुर है ।

KAVITA RAWAT ने कहा…

सभी की भोर
अलग अलग भोर
हां यही तो है
भोर की सुगबुगाहट।
Bhor ka sundar chitramak prastutikaran.......
Shubhkamnayne.

आशीष/ ASHISH ने कहा…

Kichen, bathroom, chai, akhbaar, bacche, shor, school, bhaari bag! Aur aapne kavita likh di!
Manna padega... Pata hai kyun? Isliye,ek to sajeev chitran karne mein safal rahee hai rachna aur dooja, ye ki subah ki khoobsoorti ko nahin balki usse judi rozmarrah ki kaarguzaariyon ko aapne kavita ki shaql dee!
Vadhiya! Changa!

सुशीला पुरी ने कहा…

bahut khub likha aapne......subah dhuli dhuli.

मनोज कुमार ने कहा…

औरतें

पीठ पर बोरे लादे

सड़क नापने की

कोशिश करते बच्चे।


सभी की भोर

अलग अलग भोर

हां यही तो है

भोर की सुगबुगाहट।

बहुत अच्छी प्रस्तुति। सादर अभिवादन।

Parul ने कहा…

bhor si ujli rachna!

राज भाटिय़ा ने कहा…

बहुत सुंदर कविता

अभिषेक ओझा ने कहा…

इनमें से कुछ बातों को छोड़कर लगभग सभी हमें भी दिखाई देती हैं.

Apanatva ने कहा…

sunder chitran........adbhut prastuti........

anjana ने कहा…

पूनम जी ,भोर की इस सुगबुगाहट को पढ अच्छा लगा ।

रचना दीक्षित ने कहा…

बहुत सुन्दर अच्छी लगी ये भोर कि सुगबुगाहट....बढ़िया प्रस्तुति

दीर्घतमा ने कहा…

bina namaj ki kabita puri ho sakti hai.
aap bahut acchha likhati hai.

दीर्घतमा ने कहा…

bina namaj ki kabita puri ho sakti hai.
aap bahut acchha likhati hai.

Rakesh ने कहा…

poonam ..aapki bhasha v kavita ki lay baha le jati hai ...bhor ka chitran lajwab hai ......
सभी की भोर अलग अलग भोर ..wah

दिनेश शर्मा ने कहा…

सुन्दर रचना।

shama ने कहा…

Kitni vivdh tarange leke bhor kee shuruaat hoti hai..saare nazare aankhon ke aage se ghoom gaye!

Suman ने कहा…

nice

श्याम कोरी 'उदय' ने कहा…

...अदभुत,बहुत सुन्दर,बेहद प्रसंशनीय रचना... बहुत बहुत बधाई!!!

अनामिका की सदाये...... ने कहा…

bahut man ko bhayi ye bhor ki sugbugahat. badhayi.

arun c roy ने कहा…

bahut hi rochak aur romanchak drishya uttmpan kiya hai aapne... sunder rachna... pehli baar jharokha par aaya aur man mohit ho gaya !

Prem Farrukhabadi ने कहा…

sampoorn rachna sarahneey. dil se badhai!!

देवेश प्रताप ने कहा…

अतिउत्तम रचना .......

सूर्यकान्त गुप्ता ने कहा…

भावनाएं काव्य के माध्यम से
किस तरह प्रकट होती हैं यह
कहने कि बात नहीं है. आजकल
खड़ी बोली में ही ज्यादातर काव्य का
प्रचलन है. मगर काबिले तारीफ है
शब्दों का चयन और पंक्तिबद्धता
बहुत सुन्दर "भोर" का वर्णन
बधाई!

Dr.R.Ramkumar ने कहा…

हल्के से उजाले,चिड़ियों की चूं चूं,बाथरूम में तेज पानी की धार,सूर्य देव को अर्ध्य ,घण्टे..अजान...किचन में खटपट..तेजी से चलते हाथ ...अखबार की हेडलाइन...अधूरी नींद ... बिना मुंह धोये गोदी में बच्चे उठाये तेज तेज कदमों से काम पर पहुंचने की कोशिश करती औरतें...पीठ पर बोरे लादे सड़क नापने की कोशिश करते बच्चे।
सभी की भोर अलग अलग भोर ...

बहुत सुन्दर!!
जिन्दगी के विविध चित्रों का बेहद विश्वसनीय कोलाज...
आपके हाथ में कलम न होती तो तूलिका होती....
बधाई

mridula pradhan ने कहा…

bahut achchi aur sahi bhor ki tasvir khinchi hai aapne

kavisurendradube ने कहा…

बहुत अच्छा लिखा है आपने

kavisurendradube ने कहा…

बहुत अच्छा लिखा है आपने

Mukesh Kumar Sinha ने कहा…

itnee jeevant prastuti.......samne aa gayee subah ki bela......dikh gaya........har pal albela...:)

sandhyagupta ने कहा…

Kitna jeevant drishya! Bahut khub.shubkamnayen.

Ashish (Ashu) ने कहा…

बिलकुल सही कहा आपने..सबसे आराम पतिदेवो को ही हॆ..आराम से चाय की चुस्की लेते हुये...अखबार की हेडलाइन पढते हुये..

psingh ने कहा…

bahut marmik varnan...........

Mrs. Asha Joglekar ने कहा…

कितनी जीवंत भोर है । बहुत सुंदर ।

योगेन्द्र मौदगिल ने कहा…

wah...

RAJWANT RAJ ने कहा…

sbki bhor me aapki bhor kuchh is trha chspa hui ki vo bhor apni bhor lgne lgi ye kvita ykinn aapki sadgi ko samne lati hai bhut bhut bdhai

लता 'हया' ने कहा…

shukria,
bhor ki su...aahat acchi lagi.

बेचैन आत्मा ने कहा…

बहुत अच्छी कविता पढ़ने से छूटी जा रही थी..

सभी की भोर
अलग अलग भोर
हां यही तो है
भोर की सुगबुगाहट

-वाह!

RAJ SINH ने कहा…

कहते हैं शाम-ए- अवध ,और सुबहे बनारस .वो एक सपने का सच है .
आपकी ' सुबह ' इन्सान और इंसानियत का .

sunil kumar ने कहा…

एक आम आदमी की सुबह का सजीव चित्रण , एक सराहनीय प्रयास है

बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें .

Rakesh Kumar ने कहा…

नई पुरानी हलचल से चल कर यहाँ आया
सुन्दर 'भोर की सुगबुगाहट'में मन को
मग्न पाया.

झरोखा मेरे ब्लॉग पर भी आये
इसी का इंतजार है ,पूनम जी.

सदा ने कहा…

बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) ने कहा…

बेहतरीन।

सादर

Amrita Tanmay ने कहा…

सुन्दर

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

सुन्दर सुगबुगाहट...
सादर...